Chandi Ka Badan Lyrics – Taj Mahal

Chandi Ka Badan चांदी का बदन lyrics by Asha Bhosle, Meena Kapoor, Manna Dey, Mohammed Rafi is a Hindi song from movie Taj Mahal composed by Roshan while penned by Sahir Ludhianvi. Movie directed by M. Sadiq starring Pradeep Kumar, Bina Rai, Veena, Rehman, Jeevan in the lead role having music label Saregama Music.

Chandi Ka Badan Song Credits

Song Title – Chandi Ka Badan
Movie – Taj Mahal (1963)
Director – M. Sadiq
Starring – Pradeep Kumar, Bina Rai, Veena, Rehman, Jeevan
Composer – Roshan
Singer – Asha Bhosle, Meena Kapoor, Manna Dey, Mohammed Rafi
Lyricist – Sahir Ludhianvi
Music Label – Saregama Music

Chandi Ka Badan Song Lyrics in English

Chandi ka badan sone ki nazar
Uss par yeh nazakat kya kahiye
Eji kya kahiye

Chandi ka badan sone ki nazar
Uss par yeh nazakat
Haye nazakat kya kahiye

Kis kis pe tumhare jalwon ne
Todi hai qayamat kya kahiye
Eji kya kahiye
Chandi ka badan sone ki nazar

Gustakh zubaan gustakh nazar
Yeh rang-e-tabiyat kya kahiye
Eji kya kahiye

Aise bhi kahin is duniya mein
Hoti hai mohabbat kya kahiye
Eji kya kahiye
Gustakh zubaan gustakh nazar

Aanchal ki dhanak ke saaye mein
Yeh phool gulabi chehron chehron ke
Yeh phool gulabi haan
Yeh phool gulabi chehron ke

Yeh gul bhi hai gulsan bhi hai
Aur taaron ka gurmat bhi
Yeh phool gulabi chehron ke
Yeh phool gulabi haye gulabi chehron ke

Iss waqt humari nazaro mein
Kya cheez hai jannat kya kahiye
Eji kya kahiye
Iss waqt humari nazaro mein

Tumse nazare jo mili
Din-o-duniya se gaye
Ik tamanna ke siwa
Har tamanna se gaye

Mast aankhon se jo pee
Jaam-o-meena se gaye
Zulf lehrayi jahaan
Hum bhi lehra se gaye

Hoore milti hain kise
Iski parvaah se gaye
Iski parvaah se gaye
Parvaah se parvaah se gaye

Iss waqt humari nazaro mein
Kya cheez hai jannat kya kahiye
Eji kya kahiye
Chandi ka badan sone ki nazar

Yun garm nigahein mat daalo
Yeh jism pighal bhi
Pighal bhi sakte hain
Yeh jism pighal bhi haan
Yeh jism pighal bhi sakte hain
Yeh jism pighal bhi haye
Pighal bhi sakte hain

Aadab-e-nazara bhule ho
Tum logo ki vahshat kya kahiye
Eji kya kahiye
Aadab-e-nazara bhule ho

Tum humein jeet sako
Iska imkaan nahi
Khudko badnaam karein
Hum woh naadan nahi

Koi marta hai mare
Humpe ehsaan nahi
Unse kyun baat karein
Jinse pehchan nahi

Tumko armaan hai to hai
Humko armaan nahi
Humko armaan ke
Armaan ke armaan nahi

Aadab-e-nazara bhule ho
Aadab-e-nazara bhule ho
Tum logo ki vahshat kya kahiye
Eji kya kahiye
Chandi ka badan sone ki nazar

Din raat duhayi dete hain
Yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka

Yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka

Yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka

Jahan dekhi nayi surat
Machal baithe
Jahan dekhi nayi surat
Machal baithe haye
Yehi yehi yehi lenge

Yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka

Ho jinki khatir gham sahein
Aur ro ro jaan gawayein
Haye re qismat unhi ke
Munh se deewane kehlayein

Ke yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka

In aashiqon ke haath se
Ae zindagi bawaal
Inka kare khayal ke
Apna kare khayal

Har lab hai arz-e-shauq to
Har aankh hai sawaal
Har lab hai arz-e-shauq to
Har aankh hai sawaal
Yeh gham se beqarar hain
Woh dard se nihaal

Arre yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka

Meri neend gayi mera chain gaya
Woh jo pehle thi taab-o-tawan gayi
Yahi rang raha yahi dhang raha
To meri jaan yeh jaan lo jaan gayi

Yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka

Kisi ko khudkhushi ka
Shauq ho to kya kare koi
Dawa- e-hijr de bimaar ko
Achha kare koi

Koi bewajah sar phode
To kyun parvah kare koi
Kisi majbur-e-gham ka
Haal kyun aisa kare koi

Maza jab hai ke tum
Tum pair pakro
Pair pakro tum
Dekha kare koi

Mare hum aur tum par
Ke tum par khoon ka
Khoon ka dawa dawa kare koi
Haan dawa kare koi

Yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka
Yeh haal hai inn deewano ka

Yeh haal hai inn deewano ka
Deewano ka

Jeete bhi nahi marte bhi nahi
Becharon ki haalat kya kahiye
Eji kya kahiye
Gustakh zubaan gustakh nazar

Chandi Ka Badan Song Lyrics in Hindi

चांदी का बदन सोने की नज़र
उस पर ये नज़ाक़त क्या कहिये
एजी क्या कहिये

चांदी का बदन सोने की नज़र
उस पर ये नज़ाक़त क्या कहिये
एजी क्या कहिये

किस किस पे तुम्हारे जलवो ने
तोड़ी है क़यामत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
चांदी का बदन सोने की नज़र

गुस्ताख ज़ुबान गुस्ताख़ नज़र
ये रंग-ए-तबियत क्या कहिये
एजी क्या कहिये

ऐसे भी कही इस दुनिया में
होती है मुहब्बत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
गुस्ताख ज़ुबान गुस्ताख़ नज़र

आँचल की धनक के साये में
ये फूल गुलाबी चेहरों चेहरों के
ये फूल गुलाबी हाँ
ये फूल गुलाबी चेहरों के

ये गुल भी है गुलसन भी है
और तारों का गुरमत भी
ये फूल गुलाबी चेहरों के
ये फूल गुलाबी हाए गुलाबी चेहरों के

इस वक़्त हमारी नज़रों में
क्या चीज़ है जन्नत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
इस वक़्त हमारी नज़रों में

तुमसे नज़रे जो मिली
दिन-ओ-दुनिया से गए
इक तमन्ना के सिवा
हर तमन्ना से गए

मस्त आँखों से जो पी
जाम-ओ-मीना से गए
ज़ुल्फ़ लहराई जहाँ
हम भी लहरा से गए

हूरें मिलती हैं किसे
इसकी परवाह से गए
इसकी परवाह से गए
परवाह से परवाह से गए

इस वक़्त हमारी नज़रों में
क्या चीज़ है जन्नत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
चांदी का बदन सोने की नज़र

यूँ गर्म निगाहें मत डालो
ये जिस्म पिघल भी
पिघल भी सकते हैं
ये जिस्म पिघल भी सकते हाँ
ये जिस्म पिघल भी सकते हैं
ये जिस्म पिघल भी हाए
पिघल भी सकते हैं

आदाब-ए-नज़ारा भूले हो
तुम लोगो की वहशत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
आदाब-ए-नज़ारा भूले हो

तुम हमें जीत सको
इसका इमकान नहीं
खुदको बदनाम करें
हम वो नादान नहीं

कोई मरता है मरे
हमपे एहसान नहीं
उनसे क्यूँ बात करें
जिनसे पहचान नहीं

तुमको अरमान है तो है
हमको अरमान नहीं
हमको अरमान के
अरमान के अरमान नहीं

आदाब-ए-नज़ारा भूले हो
आदाब-ए-नज़ारा भूले हो
तुम लोगो की वहशत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
चांदी का बदन सोने की नज़र

दिन रात दुहाई देते हैं
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

जहाँ देखी नई सूरत
मचल बैठे
जहाँ देखी नई सूरत
मचल बैठे हाए
येही येही येही लेंगे

ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

हो जिनकी खातिर ग़म सहें
और रो रो जान गवाएँ
हाए रे किस्मत उन्ही के
मुंह से दीवाने कहलाएँ

के ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

इन आशिक़ो के हाथ से
ऐ ज़िन्दगी बवाल
इनका करे ख्याल के
अपना करे ख्याल

हर लब है अर्ज़-ए-शौक़ तो
हर आँख है सवाल
हर लब है अर्ज़-ए-शौक़ तो
हर आँख है सवाल
ये ग़म से बेक़रार हैं
वो दर्द से निहाल

अर्रे ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

मेरी नींद गई मेरा चैन गया
वो जो पहले थी तब-ओ-ताबां गई
यही रंग रहा यही ढंग रहा
तो मेरी जाँ ये जान लो जाँ गई

ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

किसी को खुदखुसी का
शौक़ हो तो क्या करे कोई
दवा-ए-हिज्र दे बिमार को
अच्छा करे कोई

कोई बेवजह सर फोड़े
तो क्यों परवाह करे कोई
किसी मजबूर-ए-ग़म का
हाल क्यूँ ऐसा करे कोई

मज़ा जब है के तुम
तुम पैर पकरो
पैर पकरो तुम
देखा करे कोई

मरे हम और तुम पर
के तुम पर खून का
खून का दावा खून का करे कोई
हाँ दावा करे कोई

ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

ये हाल है इन दीवानों का
दीवानों का

जीते भी नहीं मरते भी नहीं
बेचारों की हालत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
गुस्ताख ज़ुबान गुस्ताख़ नज़र

Chandi Ka Badan Video

Found mistake in lyrics? We will rectify it. Please specify the error and email us at [email protected]