Ek Tha Gul Aur Ek Thi Lyrics – Jab Jab Phool Khile

Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul एक था गुल और एक थी बुलबुल lyrics by Mohammed Rafi, Nanda is a Hindi song from movie Jab Jab Phool Khile composed by Kalyanji-Anandji while penned by Anand Bakshi. Movie directed by Suraj Prakash starring Shashi Kapoor, Nanda in the lead role having music label Saregama Music.

Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul Song Credits

Song Title – Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul
Movie – Jab Jab Phool Khile (1965)
Director – Suraj Prakash
Starring – Shashi Kapoor, Nanda
Composer – Kalyanji-Anandji
Singer – Mohammed Rafi, Nanda
Lyricist – Anand Bakshi
Music Label – Saregama Music

Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul Song Lyrics in English

Ek tha gul aur ek thi bulbul
Ek tha gul aur ek thi bulbul
Dono chaman mein rehte the

Hai yeh kahani bilkul sacchi
Mere nana kehte the
Ek tha gul aur ek thi bulbul

Bulbul kuch aise gaati thi
Aise gaati thi aise gaati thi
Kaise gaati thi

Bulbul kuch aise gaati thi
Jaise tum baatein karti ho
Woh gul aise sharmata tha
Aise sharmata tha
Aise sharmata tha
Kaise sharmata tha

Woh gul aise sharmata tha
Jaise main ghabra jata hoon

Bulbul ko maalum nahi tha
Gul aise kyun sharmata tha
Woh kya jaane uska nagma
Gul ke dil ko dhadkata tha

Dil ke bhed na aate lab pe
Yeh dil mein hi rehte the
Ek tha gul aur ek thi bulbul

Phir kya hua

Lekin aakhir dil ki baatein
Aise kitne din chhupti hain
Yeh woh kaliyan hain jo ik din
Bas kaantein ban ke chubhti hain

Ik din jaan liya bulbul ne
Woh gul uska deewana hai
Tumko pasand aaya ho to bolun
Phir aage jo afsana hai

Hmm bolo na chup kyun ho gaye

Ek duje ka ho jaane par
Woh dono majboor huye
Unn dono ke pyar ke kisse
Gulshan mein mashur huye

Saath jiyenge saath marenge
Woh dono yeh kehte the
Ek tha gul aur ek thi bulbul

Phir kya huwa

Phir ik din ki baat sunaun
Ek sayyaad chaman mein aaya
Le gaya woh bulbul ko pakad ke
Aur deewana gul murjhaya
Aur deewana gul murjhaya

Shayar log bayan karate hain
Aise unki judayi ki baatein
Gaate the yeh geet woh dono
Saiyyan bina nahi kat’ti raatein
Saiyyan bina nahi kat’ti raatein
Haye

Mast baharon ka mausam tha
Aankh se aansu behte the
Ek tha gul aur ek thi bulbul

Aati thi aawaj humesha
Yeh jhilmil jhilmil taaron se
Jiska naam mohabbat hai
Woh kab rukti hai deewaron se

Ik din aah gul-o-bulbul ki
Uss pinjare se ja takrayi
Toota pinjara chhuta kaidi
Deta raha saiyad duhayi

Rok sake na usko milke
Sara zamana sari khudayi
Gul sajan ko geet sunane
Bulbul baagh mein wapas aayi

Raja bahut acchi kahani hai

Yaad sada rakhna yeh kahani
Chahe jeena chahe marna
Tum bhi kisi se pyar karo to

Pyar gul-o-bulbul sa karna
Pyar gul-o-bulbul sa karna
Pyar gul-o-bulbul sa karna
Pyar gul-o-bulbul sa karna

Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul Song Lyrics in Hindi

एक था गुल और एक थी बुलबुल
एक था गुल और एक थी बुलबुल
दोनों चमन में रहते थे

है ये कहानी बिलकुल सच्ची
मेरे नाना कहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल

बुलबुल कुछ ऐसे गाती थी
ऐसे गाती थी ऐसे गाती थी
कैसे गाती थी

बुलबुल कुछ ऐसे गाती थी
जैसे तुम बातें करती हो
वो गुल ऐसे शरमाता था
ऐसे शरमाता था
ऐसे शरमाता था
कैसे शरमाता था

वो गुल ऐसे शरमाता था
जैसे मैं घबरा जाता हूँ

बुलबुल को मालूम नहीं था
गुल ऐसे क्यों शरमाता था
वो क्या जाने उसका नगमा
गुल के दिल को धड़काता था

दिल के भेद ना आते लब पे
ये दिल में ही रहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल

फिर क्या हुआ

लेकिन आखिर दिल की बातें
ऐसे कितने दिन छुपती हैं
ये वो कलियाँ हैं जो इक दिन
बस कांटे बन के चुभती हैं

इक दिन जान लिया बुलबुल ने
वो गुल उसका दीवाना है
तुमको पसंद आया हो तो बोलूँ
फ़िर आगे जो अफ़साना है

हम्म बोलो ना चुप क्यों हो गए

एक दूजे का हो जाने पर
वो दोनों मजबूर हुए
उन दोनों के प्यार के किस्से
गुलशन में मशहूर हुए

साथ जियेंगे साथ मरेंगे
वो दोनों ये कहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल

फिर क्या हुआ

फिर इक दिन की बात सुनाऊँ
एक सैयाद चमन में आया
ले गया वो बुलबुल को पकड़ के
और दीवाना गुल मुर्झाया
और दीवाना गुल मुर्झाया

शायर लोग बयां करते हैं
ऐसे उनकी जुदाई की बातें
गाते थे ये गीत वो दोनों
सैया बिना नहीं कटती रातें
सैया बिना नहीं कटती रातें
हाए

मस्त बहारों का मौसम था
आँख से आंसू बहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल

आती थी आवाज हमेशा
ये झिलमिल झिलमिल तारों से
जिसका नाम मोहब्बत है
वो कब रुकती हैं दीवारो से

इक दिन आह गुल-ओ-बुलबुल की
उस पिंजरे से जा टकराई
टूटा पिंजरा छूटा कैदी
देता रहा सैयद दुहाई

रोक सके ना उसको मिलके
सारा ज़माना सारी खुदाई
गुल साजन को गीत सुनाने
बुलबुल बाघ में वापस आयी

राजा बहुत अच्छी कहानी है

याद सदा रखना ये कहानी
चाहे जीना चाहे मरना
तुम भी किसी से प्यार करो तो

प्यार गुल-ओ-बुलबुल सा करना
प्यार गुल-ओ-बुलबुल सा करना
प्यार गुल-ओ-बुलबुल सा करना
प्यार गुल-ओ-बुलबुल सा करना

Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul Video

Found mistake in lyrics? We will rectify it. Please specify the error and email us at [email protected]