Husn Pahadon Ka Lyrics – Ram Teri Ganga Maili

Husn Pahadon Ka हुस्न पहाड़ों का lyrics by Lata Mangeshkar, Suresh Wadkar is a Hindi song from movie Ram Teri Ganga Maili composed-penned by Ravindra Jain. Movie directed by Raj Kapoor starring Mandakini, Rajiv Kapoor, Divya Rana, Saeed Jaffrey, Kulbhushan Kharbanda, Raza Murad, Sushma Seth in the lead role having music label Saregama Music.

Husn Pahadon Ka Song Credits

Song Title – Husn Pahadon Ka
Movie – Ram Teri Ganga Maili (1985)
Director – Raj Kapoor
Starring – Mandakini, Rajiv Kapoor, Divya Rana, Saeed Jaffrey, Kulbhushan Kharbanda, Raza Murad, Sushma Seth
Music – Ravindra Jain
Singer – Lata Mangeshkar, Suresh Wadkar
Lyricist – Ravindra Jain
Music Label – Saregama Music

Husn Pahadon Ka Song Lyrics in English

Husn pahadon ka o shahiba
Husn pahadon ka

Kya kehna ki baaron mahine
Yahan mausam jaado ka
Kya kehna ki baaron mahine
Yahan mausam jaado ka

Rut yeh suhani hai meri jaan
Rut yeh suhani hai

Ke sardi se dar kaisa
Sang garam jawani hai
Ke sardi se dar kaisa
Sang garam jawani hai

Tum pardesi kidhar se aaye
Aate hi mere mann mein samaye
Karun kya hathon se mann nikla jaaye
Karun kya hathon se mann nikla jaaye

Chhote chhote jharne hain
Ke jharnon ka paani chhuke
Kuch vaade karne hain

Jharne to behte hain
Qasam le pahadon ki
Jo kayam rehte hain

Khile khille phoolon se bhari bhari waadi
Raat hi raat mein kisne sajadi
Lagta hai jaise yahan apni ho shadi
Lagta hai jaise yahan apni ho shadi

Kya gull bootein hain
Pahadon mein yeh kehte hain
Pardesi to jhoothe hain

Ho hath hain hathon mein
Ke rasta kat hi gaya
Inn pyar ki baaton mein

Duniya yeh gaati hai
Suno ji duniya yeh gaati hai
Ke pyar se rasta to kya
Zindagi kat jaati hai
Ke pyar se rasta to kya
Zindagi kat jaati hai

Husn Pahadon Ka Song Lyrics in Hindi

हुस्न पहाड़ों का ओ साहिबा
हुस्न पहाड़ों का

क्या कहने की बारों महिने
यहाँ मौसम जाड़े का
क्या कहने की बारों महिने
यहाँ मौसम जाड़े का

रुट ये सुहानी है मेरी जान
रुट ये सुहानी है

के सर्दी से डर कैसा
संग गरम जवानी है
के सर्दी से डर कैसा
संग गरम जवानी है

तुम परदेसी किधर से आये
आते ही मेरे मन में समाये
करूँ क्या हाथों से मन निकला जाए
करूँ क्या हाथों से मन निकला जाए

छोटे छोटे झरने हैं
के झरनों का पानी छूके
कुछ वादे करने हैं

झरने तो बहते हैं
क़सम लें पहाड़ों की
जो कायम रहते हैं

खिले खिले फूलों से भरी भरी वादी
रात ही रात में किसने सजादी
लगता है जैसे यहाँ अपनी हो शादी
लगता है जैसे यहाँ अपनी हो शादी

क्या गुल बुटें हैं
पहाड़ों में ये कहते हैं
परदेसी तो झूठे हैं

हो हाथ हैं हाथो में
के रस्ता कट ही गया
इन प्यार की बातों में

दुनिया ये गाती है
सुनो जी दुनिया ये गाती है
के प्यार से रस्ता तो क्या
ज़िन्दगी कट जाती है
के प्यार से रास्ता तो क्या
ज़िन्दगी कट जाती है

Husn Pahadon Ka Videoclick here

Found mistake in lyrics? We will rectify it. Please specify the error and email us at [email protected]