Yahan Main Ajnabi Hoon Lyrics – Jab Jab Phool Khile

Yahan Main Ajnabi Hoon यहाँ मैं अजनबी हूँ lyrics by Mohammed Rafi is a Hindi song from movie Jab Jab Phool Khile composed by Kalyanji-Anandji while penned by Anand Bakshi. Movie directed by Suraj Prakash starring Shashi Kapoor, Nanda in the lead role having music label Saregama Music.

Yahan Main Ajnabi Hoon Song Credits

Song Title – Yahan Main Ajnabi Hoon
Movie – Jab Jab Phool Khile (1965)
Director – Suraj Prakash
Starring – Shashi Kapoor, Nanda
Composer – Kalyanji-Anandji
Singer – Mohammed Rafi
Lyricist – Anand Bakshi
Music Label – Saregama Music

Yahan Main Ajnabi Hoon Song Lyrics in English

Kabhi pehle
Dekha nahi yeh samaa
Yeh main bhul se
Aa gaya hoon kahan

Yahan main ajnabi hoon
Yahan main ajnabi hoon
Main jo hoon bas wahi hoon
Main jo hoon bas wahi hoon

Yahan main ajnabi hoon
Yahan main ajnabi hoon

Kahan shaam-o-sahar yeh
Kaha din-raat mere
Bahut rusva huye hain
Yahan jazbaat mere

Nayi tehzeeb hai yeh
Naya hai yeh zamana
Magar main aadmi hoon
Wahi sadiyon purana

Main kya jaanu yeh baatein
Zara insaaf karna
Meri gustakhiyon ko
Khudara maaf karna

Yahan main ajnabi hoon
Yahan main ajnabi hoon

Teri baanhon mein dekhun
Sanam gairon ki baanhein
Main launga kahan se
Bhala aisi nigahein

Yeh koi raqs hoga
Koi dastur hoga
Mujhe dastur aisa
Kahan manzur hoga

Bhala kaise yeh mera
Lahu ho jaaye paani
Main kaise bhool jaaun
Main hoon Hindustani

Yahan main ajnabi hoon
Yahan main ajnabi hoon

Mujhe bhi hai shikayat
Tujhe bhi to gilla hai
Yahi shikwe humari
Mohabbat ka silla hai

Kabhi maghrib se mashriq
Mila hai jo milega
Jahan ka phool hai jo
Wahin pe woh khilega

Tere unche mahal mein
Nahin mera guzara
Mujhe yaad aa raha hai
Wo chhota sa shikara

Yahan main ajnabi hoon
Yahan main ajnabi hoon
Main jo hoon bas wohi hoon
Main jo hoon bas wohi hoon

Yahan main ajnabi hoon
Yahan main ajnabi hoon

Yahan Main Ajnabi Hoon Song Lyrics in Hindi

कभी पहले
देखा नहीं ये समा
ये मैं भूल से
आ गया हूँ कहाँ

यहाँ मैं अजनबी हूँ
यहाँ मैं अजनबी हूँ
मैं जो हूँ बस वोही हूँ
मैं जो हूँ बस वोही हूँ

यहाँ मैं अजनबी हूँ
यहाँ मैं अजनबी हूँ

कहाँ शाम-ओ-सहर ये
कहा दिन-रात मेरे
बहुत रुसवा हुए हैं
यहाँ जज़्बात मेरे

नई तहज़ीब है ये
नया है ये ज़माना
मगर मैं आदमी हूँ
वही सदियों पुराना

मैं क्या जानूं ये बातें
ज़रा इन्साफ करना
मेरी गुस्ताखियों को
खुदरा माफ़ करना

यहाँ मैं अजनबी हूँ
यहाँ मैं अजनबी हूँ

तेरी बांहों में देखूं
सनम गैरों की बाँहें
मैं लाऊंगा कहाँ से
भला ऐसी निगाहें

ये कोई रक़्स होगा
कोई दस्तूर होगा
मुझे दस्तूर ऐसा
कहाँ मंज़ूर होगा

भला कैसे ये मेरा
लहु हो जाए पानी
मैं कैसे भूल जाऊं
मैं हूँ हिन्दुस्तानी

यहाँ मैं अजनबी हूँ
यहाँ मैं अजनबी हूँ

मुझे भी है शिकायत
तुझे भी तो गिला है
यही शिक़वे हमारी
मोहब्बत का सिला है

कभी मग़रिब से मशरिक़
मिला है जो मिलेगा
जहाँ का फूल है जो
वहीं पे वो खिलेगा

तेरे ऊँचे महल में
नहीं मेरा गुज़ारा
मुझे याद आ रहा है
वो छोटा सा शिकार

यहाँ मैं अजनबी हूँ
यहाँ मैं अजनबी हूँ
मैं जो हूँ बस वोही हूँ
मैं जो हूँ बस वोही हूँ

यहाँ मैं अजनबी हूँ
यहाँ मैं अजनबी हूँ

Yahan Main Ajnabi Hoon Video

Found mistake in lyrics? We will rectify it. Please specify the error and email us at [email protected]