Zamane Men Aji Lyrics – Jeevan Mrityu

Zamane Men Aji ज़माने में अजी lyrics by Lata Mangeshkar is a Hindi song from movie Jeevan Mrityu composed by Laxmikant-Pyarelal while penned by Anand Bakshi. Movie directed by Satyen Bose starring Dharmendra, Raakhee, Ajit in the lead role having music label Saregama India Ltd.

Zamane Men Aji Song Credits

Song Title – Zamane Men Aji
Movie – Jeevan Mrityu (1970)
Director – Satyen Bose
Starring – Dharmendra, Raakhee, Ajit
Music – Laxmikant-Pyarelal
Singer – Lata Mangeshkar
Lyricist – Anand Bakshi
Music Label – Saregama India Ltd

Zamane Men Aji Song Lyrics in English

Zamane men aji aise kayi
Nadaan hote hain
Zamane men aji aise kayi
Nadaan hote hain
Zamane men aji
Nadaan hote hain

Wahan le jaate hain kashti
Wahan le jaate hain kashti
Wahan le jaate hain kashti
Jahaan tufaan hote hain

Zamane men aji aise kayi
Nadaan hote hain

Shama ki bazm mein aakar
Yeh parvaane samajhte hain
Yeh parvaane samajhte hain

Yahin par umrr guzregi
Yeh deewane samjhte hain

Magar ik raat ke ha ha
Magar ik raat ke yeh to
Faqat mehmaan hote hain
Magar ik raat ke yeh to
Faqat mehmaan hote hain

Zamane men aji aise kayi
Nadaan hote hain

Mohabbat sabki mehfil men
Shama bankar nahi jalti
Shama bankar nahi jalti

Haseeno ki nazar sab pe
Chhuri bankar nahi chalti

Jo hain taqdeer wale haan
Jo hain taqdeer wale bas
Wahi qurbaan hote hain
Jo hain taqdeer wale bas
Wahi qurbaan hote hain

Wahan le jaate hain kashti
Jahaan tufaan hote hain
Jahaan me

Dubo ke door sahil se
Nazara dekhne waale
Nazara dekhne waale

Laga kar aag chupke se
Tamasha dekhne wale

Tamasha aap bante haan
Tamasha aap bante hain to
Kyun hairaan hote hain
Tamasha aap bante hai to
Kyun hairaan hote hain

Wahan le jaate hain kashti
Jahaan tufaan hote hain

Zamane Mein Aji Song Lyrics in Hindi

ज़माने में अजी ऐसे कई
नादान होते हैं
ज़माने में अजी ऐसे कई
नादान होते हैं
ज़माने में अजी ऐसे कई
नादान होते हैं

वहाँ ले जाते है कश्ती
वहाँ ले जाते है कश्ती
वहाँ ले जाते है कश्ती
जहाँ तूफ़ान होते हैं

ज़माने में अजी ऐसे कई
नादान होते हैं

शमा की बज़्म में आकर
ये परवाने समझते हैं
ये परवाने समझते हैं

यहीं पर उम्र गुज़रेगी
ये दीवाने समझते हैं

मगर इक रात के हा हा
मगर इक रात के ये तो
फ़क़त मेहमान होते हैं
मगर इक रात के ये तो
फ़क़त मेहमान होते हैं

ज़माने में अजी ऐसे कई
नादान होते हैं

मोहब्बत सबकी महफ़िल में
शामा बनकर नहीं जलती
शामा बनकर नहीं जलती

हसीनो की नज़र सब पे
छुरी बनकर नहीं चलती

जो हैं तक़दीर वाले हाँ
जो हैं तक़दीर वाले बस
वाही कुर्बान होते हैं
जो हैं तक़दीर वाले बस
वाही कुर्बान होते हैं

वहाँ ले जाते हैं कश्ती
जहाँ तूफ़ान होते हैं
जहाँ में

डुबो कर दूर साहिल से
नज़ारा देखने वाले
नज़ारा देखने वाले

लगा कर आग चुपके से
तमाशा देखने वाले

तमाशा आप बनते हाँ
तमाशा आप बनते हैं तो
क्यों हैरान होते हैं
तमाशा आप बनाते है तो
क्यों हैरान होते हैं

वहाँ ले जाते हैं कश्ती
जहाँ तूफ़ान होते हैं

Zamane Mein Aji Video

Found mistake in lyrics? We will rectify it. Please specify the error and email us at [email protected]